100% PP 100%25%20PP
Currently unavailable.
We don't know when or if this item will be back in stock.
List & Earn Rs.250* extra. Available in Bangalore, Mumbai, Chennai, Hyderabad. Sell on Local Finds.
Flip to back Flip to front
Listen Playing... Paused   You're listening to a sample of the Audible audio edition.
Learn more.
See all 2 images

Saket (Hindi) Paperback – 1 Jan 2005

3.7 out of 5 stars 9 customer reviews

See all 3 formats and editions Hide other formats and editions
Price
New from
Paperback
click to open popover

Product description

About the Author

जन्म: 3 अगस्त, 1886 (चिरगांव, झांसी) के एक संपन्न वैश्य परिवार में। पूरी स्कूली शिक्षा नहीं। स्वतंत्र रूप से हिंदी, संस्कृत और बांग्ला भाषा एवं साहित्य का ज्ञान। मुंशी अजमेरी के कारण संगीत की ओर भी आकृष्ट।

काव्य-रचना का आरंभ ब्रजभाषा में उपनाम ‘रसिछेंद’ 1905 में ‘सरस्वती’ में छपने के बाद से महावीरप्रसाद द्विवेदी के प्रभाव से खड़ीबोली में काव्य-रचना। द्विवेदी-मंडल के नियमित सदस्य। अपनी कृतियों से खड़ीबोली को काव्य-माध्यम के रूप में स्वीकृति दिलाने में सफल। 1909 में पहली काव्य-कृति ‘रंग में भंग’ का प्रकाशन। तत्पश्चात् ‘जयद्रथ-वध’ और ‘भारत भारती’ के प्रकाशन से लोकप्रियता में भारी वृद्धि। 1930 में महात्मा गांधी द्वारा ‘राष्ट्रकवि’ की अभिधा प्रदत्त, जिसे संपूर्ण राष्ट्र द्वारा मान्यता।

कालजयी कृतियाँ: ‘जयद्रथ-वध’, ‘भारत-भारती’, ‘पंचवटी’, ‘साकेत’, ‘यशोधरा’, ‘द्वापर’, ‘मंगल-घर’ और ‘विष्णु प्रिया’। गुप्तजी ने बांग्ला से मुख्यतः माइकेल मधुसूदन दत्त की काव्य कृतियाँ ‘विरहिणी वजांगना’, ‘वीरांगना’ और ‘मेघनाद-वध’ का पद्यानुवाद भी किया है। संस्कृत से भास के अनेक नाटकों का भी अनुवाद। उत्कृष्ट गद्य-लेखक भी, जिसका प्रपाण ‘श्रद्धांजलि और संस्करण’ नामक पुस्तक।

भारतीय राष्ट्रीय जागरण और आधुनिक चेतना के महान् कवि के रूप में मान्य। खड़ीबोली में काव्य-रचना के ऐतिहासिक पुरस्कर्ता ही नहीं, साहित्यिक प्रतिमान भी।

संपादित पुस्तकें: ‘असंकलित कविताएँ: निराला’, ‘निराला रचनावली (आठ खंड)’, ‘रुद्र समग्र’, रामगोपाल शर्मा ‘रुद्र’ की प्रतिनिधि कविताएँ, ‘हर अक्षर है टुकड़ा दिल का’, ‘काव्य समग्र: रामजीवन शर्मा ‘जीवन’, ‘मैं पढ़ा जा चुका पत्र: पत्र-संग्रह’, ‘रामावतार शर्मा: प्रतिनिधि संकलन’, ‘अंधेरे में ध्वनियों के बुलबुले: वैशाली जनपद के कवियों की कविताओं का संकलन’, ‘अंत-अनंत: निराला की सौ चुनी हुई सरल कविताएँ’, ‘कामायनी-परिशीलन: ‘कामायानी’ पर चुने हुए हिंदी के श्रेष्ठ निबंध’, ‘मुक्तिबोध: कवि-छवि: मुक्तिबोध पर चुने हुए हिंदी के श्रेष्ठ निबंध’, ‘निराला: कवि-छवि: निराला पर चुने हुए हिंदी के श्रेष्ठ निबंध’, ‘काव्य समग्र: राम इकबाल सिंह ‘राकेश’।

Enter your mobile number or email address below and we'll send you a link to download the free Kindle App. Then you can start reading Kindle books on your smartphone, tablet, or computer - no Kindle device required.

  • Apple
  • Android
  • Windows Phone

To get the free app, enter mobile phone number.



Get 95% Off on your first eBooks. Code : KINDLE

Product details

  • Paperback: 288 pages
  • Publisher: Lokbharti Prakashan (1 January 2005)
  • Language: Hindi
  • ISBN-10: 8180312925
  • ISBN-13: 978-8180312922
  • Package Dimensions: 21.3 x 13.2 x 1.3 cm
  • Average Customer Review: 3.7 out of 5 stars 9 customer reviews
  • Amazon Bestsellers Rank: #81,103 in Books (See Top 100 in Books)
  • Would you like to tell us about a lower price?
    If you are a seller for this product, would you like to suggest updates through seller support?



Customer reviews

3.7 out of 5 stars
Share your thoughts with other customers
See all 9 customer reviews

Top customer reviews

6 January 2016
Format: PaperbackVerified Purchase
22 October 2017
Format: PaperbackVerified Purchase
8 February 2016
Format: PaperbackVerified Purchase
16 February 2018
Format: PaperbackVerified Purchase
29 December 2015
Format: PaperbackVerified Purchase
27 February 2016
Format: PaperbackVerified Purchase
11 November 2015
Format: PaperbackVerified Purchase
20 March 2016
Format: PaperbackVerified Purchase

Where's My Stuff?

Delivery and Returns

Need Help?