100% PP 100%25%20PP
   100.00 +    107.00 Delivery charge
  • M.R.P.:    125.00
  • You Save:    25.00 (20%)
  • Inclusive of all taxes
Cash on Delivery eligible. Details
Sold and fulfilled by Booknow (3.7 out of 5 | 262 ratings).
List & Earn Rs.250* extra. Available in Bangalore, Mumbai, Chennai, Hyderabad. Sell on Local Finds.
Flip to back Flip to front
Listen Playing... Paused   You're listening to a sample of the Audible audio edition.
Learn more.
See this image

Kasturi Mrig (Hindi) Paperback – 1 Jan 2016

5.0 out of 5 stars 3 customer reviews

See all 2 formats and editions Hide other formats and editions
Price
New from
Paperback
   100.00
   100.00

Half-Price sale on popular books Half-Price sale on popular books
click to open popover

Special offers and product promotions

  • Shop with balance and get 10% cashback up to Rs.200 per customer. Minimum order Rs.250 (excluding delivery fees). Applicable on orders paid using Amazon Pay balance only.ADD BALANCE NOW Here's how (terms and conditions apply)

Frequently bought together

  • Kasturi Mrig
  • +
  • Madhuyamini
Total price:   200.00
Buy the selected items together

What other items do customers buy after viewing this item?

Product description

About the Author

हिन्दी साहित्य में शिवानी एक जाना पहचाना नाम है। इन्होनें काफी सारे उपन्यास, कहानियाँ, आलेख और निबन्ध लिखकर हिन्दी साहित्य को अपना योगदान दिया है। इनके लेखन में भावों का सुन्दर चित्रण, भाषा की सादगी तो होती ही थी साथ ही साथ पहाड‌‌‌, वहाँ रहने वाले भोले भाले लोग और वहाँ की संस्कृति का जीता जागता वर्णन होता था। अगर आपने उनका लिखा साहित्य पढ‌ा है तो समझ लीजिये कि कुमाऊँनी तो आप आसानी से समझ लेंगे क्योंकि उनके लेखन में कुमाऊँनी शब्दों और मुहावरों की भरमार रहती थी। उनके शब्दों में, मेरा लेखन कोई कल्पना की उड‌ान नही, यह सच्चाई से जुड‌ा है शिवानी का जन्म सन् १९२३ में सौराष्ट्र में हुआ, उनके पिता अश्विनी कुमार पांडे रामपुर स्टेट में दिवान थे, वह वायसराय के वार काउंसिल में मेम्बर भी थे। उनकी माता संस्कृत की विदूषी ही नही वरन लखनऊ महिला विधालय की प्रथम छात्रा भी थीं। १९३५ से १९४३ के मध्य उन्होने रविन्द्र नाथ टैगोर के शांति निकेतन में विधा अध्ययन किया और १९५३ में कलकत्ता से स्नातक की उपाधि प्राप्त की। उन्हें गुजराती, बंगाली, संस्कृत, अंग्रेजी और उर्दू का भी अच्छा ज्ञान था। उनके पति एस डी पंत शिक्षा विभाग में थे और दुर्भाग्य से काफी जवानी में उनका निधन हो गया था। शिवानी की तीन बेटियाँ (वीना, मृणाल पांडे, ईरा पांडे – मृणाल और ईरा भी जानी मानी लेखिका हैं) और एक बेटा (मुक्तेश पंत, बच्चों में सबसे छोटा और आजकल अमेरिका में) हैं। शादी के बाद शिवानी का ज्यादा वक्त कुमाऊँ की पहाडियों में ही बीता, बाद में वो लखनऊ में आकर रहने लगी। मार्च २००३ को नई दिल्ली में अपने बच्चों में दीदी के नाम से विख्यात इस ईजा (माँ) का देहांत हुआ।

Enter your mobile number or email address below and we'll send you a link to download the free Kindle App. Then you can start reading Kindle books on your smartphone, tablet, or computer - no Kindle device required.

  • Apple
  • Android
  • Windows Phone

To get the free app, enter mobile phone number.



Editor's Corner
Discover what to read next through our handpicked recommendations. See more

Product details

  • Paperback: 139 pages
  • Publisher: Radhakrishan Prakashan; 5th edition (1 January 2016)
  • Language: Hindi
  • ISBN-10: 8183611087
  • ISBN-13: 978-8183611084
  • Package Dimensions: 21.3 x 13.5 x 0.8 cm
  • Average Customer Review: 5.0 out of 5 stars 3 customer reviews
  • Amazon Bestsellers Rank: #49,699 in Books (See Top 100 in Books)
  • Would you like to tell us about a lower price?
    If you are a seller for this product, would you like to suggest updates through seller support?


Customer reviews

5.0 out of 5 stars
Share your thoughts with other customers
See all 3 customer reviews

Top customer reviews

16 May 2015
Format: Paperback|Verified Purchase
0Comment| 2 people found this helpful. Was this review helpful to you? Report abuse
26 April 2017
Format: Paperback|Verified Purchase
0Comment|Was this review helpful to you? Report abuse
29 June 2015
Format: Paperback|Verified Purchase
0Comment| 2 people found this helpful. Was this review helpful to you? Report abuse

Most helpful customer reviews on Amazon.com

Amazon.com: 5.0 out of 5 stars 1 reviews
Richa Bhatnagar
5.0 out of 5 starsKasturi Mrig
26 September 2016 - Published on Amazon.com
Format: Paperback

Where's My Stuff?

Delivery and Returns

Need Help?